Education

Internet Ke Labh Aur Hani इंटरनेट का लाभ

internet ke labh aur hani

internet ke labh aur hani अनेक है। इंटरनेट से हम शिक्षा, मनोरंजन, स्वास्थ्य, खेल, विज्ञान, अंतरिक्ष, राजनीति, रोजगार, सुरक्षा आदि का ज्ञान, लाभ, खोज, तरक्की व आविष्कार प्राप्त कर सकते हैं। यह हमारे समय की बचत करता है। यह दुनिया के अपार ज्ञान का भण्डार है। इंटरनेट की सहायता से लोग वैश्विक स्तर पर एक दूसरे से जुड़े है व सूचनाओं का आदान प्रदान करते हैं। ऑनलाइन रोजगार उपलब्ध कराता है।

इंटरनेट के नुकसान बच्चो व विद्यार्थियों को ज्यादा प्रभावित करते हैं। बच्चे इंटरनेट पर उपलब्ध मनोरंजक सामग्री में ज्यादा समय नष्ट करते हैं। जिस कारण उनकी शिक्षा, मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य नकारात्मक रूप से प्रभावित होता है। इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार अमान्य (illegal) सामग्री भी उपलब्ध है जो कि बच्चों, विद्यार्थियों व समाज को गंभीर रूप से नुकसान पहुँचाती है। जिस कारण cyber crime जैसी घटनाओं का विस्तार तेजी से बढ रहा है। अतः इसे रोकने के लिए विभिन्न देशों की सरकारें सभी प्रकार की इंटरनेट गतिविधियों पर नियंत्रण व नजर रखती हैं। ताकी अपराध व नकारात्मक गतिवधियों को नियंत्रित व रोका जा सके।

इंटरनेट का लाभ

इंटरनेट का लाभ इस प्रकार हैं।

  1. वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण सूचनाओं का आदान प्रदान संभव हुआ है।
  2. यह हमारे समय व परिश्रम की बचत करता है।
  3. सभी क्षेत्रों का महत्वपूर्ण ज्ञान इंटरनेट पर उपलब्ध है।
  4. आविष्कार व खोज में सहायक है।
  5. ऑनलाइन रोजगार प्रदान करता है।
  6. विभिन्न प्रकार की डिजिटल सेवाएं ( बैंकिंग, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि) उपलब्ध कराता है।
  7. आपदा प्रबंधन में संचार सेवाओं में सहायक है।
  8. ऑनलाइन शॉपिंग बहुत ही महत्वपूर्ण इंटरनेट सेवा का उदाहरण है।
  9. इंटरनेट के माध्यम से आप सरकारी सेवाओं से जुड सकते है और इसका लाभ उठा सकते हैं।
  10. खुद की सुरक्षा कर सकते है। उदाहरण के लिए cctv camera इंटरनेट के माध्यम से घर व अन्य स्थानों की सुरक्षा की निगरानी में सहायक है।

 

इंटरनेट के नुकसान

इंटरनेट के बहुत अधिक नुकसान है।

  1. लोग सोशल मीडिया चैनल पर बहुत अधिक समय बर्बाद करते हैं।
  2. बहुत सारी गलत जानकारियों का आदान-प्रदान इंटरनेट पर उपलब्ध है। जो लोगों के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  3. विद्यार्थी ऑनलाइन गेम्स व अन्य मनोरंजक गतिविधियों में ज्यादा समय नष्ट करते है।
  4. इंटरनेट पर उपलब्ध विभिन्न प्रकार की अश्लील डाटा बच्चो व विद्यार्थियों के शारीरिक व मानसिक विकास को नष्ट कर रहा है।
  5. भिन्न भिन्न प्रकार के गैरकानूनी काम भी इंटरनेट के माध्यम से किये जाते हैं।
  6. ऑनलाइन शिक्षा के आ जाने से परम्परागत शिक्षा नकारात्मक रूप से प्रभावित हुई है।
  7. लोग online chat app पर बातचीत करना ज्यादा पसंद कर रहे है, जिस कारण आपसी सम्बन्ध व मेलजोल कम होता जा रहा है।
  8. क्योंकि इंटरनेट पर शारीरिक गतिविधि ना के बराबर होती है इसलिए यह हमारे शरीर व दिमाग को आलसी बना देता है।
  9. इंटरनेट के कारण तार-पत्र, चिट्ठी,घड़ी, किताब आदि का प्रयोग ना के बराबर हो गया है।
  10. बच्चों का शारीरिक खेलों की तरफ से रुझान खत्म होता जा रहा है, वे मोबाइल या कंप्यूटर पर गेम्स खेलना अधिक पसंद करते है। जिस कारण उनका शारीरिक विकास अवरुद्ध होता जा रहा है।

Debate on Internet in Hindi

इंटरनेट मनुष्य को विज्ञान द्वारा एक महत्वपूर्ण भेट है। छात्रों, शिक्षकों व सामान्य व्यक्तियों  के लिए यह उनके जीवन का साधन बन गया है। यह शिक्षा, ऊर्जा, स्वास्थ्य, मनोरंजन, खगोल, आपदा, व्यापार आदि क्षेत्रों में संचार, विकास, सहायता एवं नयी खोज व आविष्कारों का उपाय बन गया है। यह हमारी शारीरिक शक्ति व समय की बचत में सहायक है। इंटरनेट के माध्यम से दुनिया के सभी लोग एक दूसरे से जुड़े हुए है और अपने आचार विचार एक दूसरे से साझा करते हैं।

विशेषकर शिक्षा, सुरक्षा, संचार व मनोरंजन के क्षेत्र में इंटरनेट ने क्रांति ला दी है। आज ई लर्निंग के माध्यम से हम किसी भी विषय का संपूर्ण ज्ञान घर बैठे ही प्राप्त कर सकते हैं।

प्राकृतिक व अन्य किसी प्रकार की आपदा के घटित होने पर हम इंटरनेट टेक्नोलॉजी की सहायता से तुरंत संपर्क, सहायता व उपाय प्राप्त कर सकते हैं। यदि हमें किसी विषय की जानकारी चाहिए तो हम उसे इंटरनेट पर खोज सकते है। इंटरनेट ने हमारी लोगो पर निर्भरता को कम किया है। जिस कारण सेल्फ स्टडी को बढ़ावा व नई दिशा मिली है।

इंटरनेट के लाभ के अलावा इसके बहुत सारे नुकसान भी देखने को मिलते हैं। 

बच्चों एवं युवाओं को इंटरनेट की लत सी लग गयी है। वे अपना अधिकतर समय ऑनलाइन गेम्स, चैटिंग व अन्य सोशल मीडिया गतिविधियों पर व्यतीत करना पसंद करते हैं। Facebook, twitter, Instagram, WhatsApp, reddit आदि लोगो के मनपसंद ऑनलाइन प्लेटफॉर्मस हैं।

 

लेकिन हर विषय या वस्तु की एक सीमा होती हैं। इसलिए लोगों के बीच इंटरनेट के प्रयोग की अति (excess) हो रही हैं। जिस कारण बच्चों के माता पिता, अभिभावक व गुरूजन अत्यंत चिंतित है। आज 2 -3 वर्ष के बच्चे भी स्मार्ट फोन पर चित्र व वीडियो देखना पसंद करते हैं। जिस आयु में बच्चों को शारीरिक खेल कूद  व गतिविधियां करनी चाहिए उस आयु में बच्चे मोबाइल व इंटरनेट की लत से जूझ रहे है। जो गंभीर रूप से उनके मानसिक व शारीरिक विकास में अवरुद्ध बन रहा है। परिणाम यह है कि मोटापा, आँखों की समस्या, चिड़चिड़ापन, शरीर का कम विकास होना आदि समस्याएँ बच्चों में देखने को मिल रही है।

 

हमारे माता पिता व बड़े भी इंटरनेट के प्रभाव से बचे नहीं  है। वे भी बच्चों व युवाओं की तरह मोबाइल पर सोशल गतिविधियों से जुड़े हुए है। इंटरनेट की चमक दमक है ही ऐसी की इससे कोई अछूता नहीं है। बच्चे, युवा, माता पिता व घर के अन्य ज्यादातर सदस्य अपने अपने मोबाइल फोन मे ही घुसे रहते है, जिस कारण परिवार में आपसी बातचीत, साथ उठना बैठना व व्यवहार  नकारात्मक रूप से प्रभावित हो रहा है। यह बहुत ही खतरनाक है। हमारे बच्चे एवं घर के अन्य सदस्य भी इंटरनेट व मोबाइल का प्रयोग देर रात्रि तक करते है जिस कारण उन्हें नींद, थकान व कमजोरी, पढाई व काम में मन न लगना आदि समस्याओं का सामना करना पड रहा है। 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

post-image
Business

Zero Investment Business in Hindi: Online Offline Ideas – 2021

  1.साक्षात्कारकर्ता(Interviewer) बनकर साक्षात्कारकर्ता जीरो इन्वेस्टमेंट वाला बिजनेस है। लोग सफल व्यक्तियों का इंटरव्यू देखना पसंद करते है। इस...