seo

Top-12 Seo Interview Questions In Hindi-इंटरव्यू क्वेश्चन एंड आंसर

Top-12 Seo Interview Questions In Hindi

आज हमने इस पोस्ट में एस ई ओ के इंटरव्यू क्वेश्चन हिंदी में व्याख्या की हैं, इसके अलावा SEO questions-answers में सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से संबंधित महत्वपूर्ण व लेटेस्ट प्रश्न उत्तर पर भी चर्चा की है। ज्यादातर व्यक्ति हिंदी में बोलचाल होने के कारण किसी विषय, वस्तु अथवा स्किल का ज्ञान हिन्दी में प्राप्त करना चाहते हैं। क्योकि हिन्दी अथवा अपनी प्रतिदिन बोले जाने वाली भाषा में हम चीजों को अच्छे से समझ व याद रख सकते हैं। इस अंग्रेजी प्रभुत्वशाली मानसिकता ने अनेक प्रकार के विषयों एवं ज्ञान को हमारे लिए कठिन बना दिया हैं। तो आइए आरम्भ करते हैं एस ई ओ से सम्बंधित प्रश्न व उत्तर।

 

1- Search Engine Optimization Kya Hai(सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या है)

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन(SEO) एक ऐसा Unpaid Organic Traffic Generate ई-मार्कटिंग करने का तरीका है जिसकी सहायता से इंटरनेट पर किसी वेबसाइट या ब्लॉग का on-page-optimization कर उसका ऑनलाइन प्रचार एवं प्रमोशन किया जाता है ताकि वेबसाइट सर्च इंजन के टॉप दस रिजल्ट में रैंक कर सके एवं अधिक से अधिक यूजर्स वेबसाइट पर आये। सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन प्रत्येक प्रकार के बिजनेस की Growth को बढ़ाता हैं। 

यह दो तरीके का होता On-Page-Optimization And Off-Site-Promotion Seo.

 

2- On Page Seo Kya Hota Hai(ऑन पेज एसईओ क्या होता है)

On page seo एक ऐसा तरीका है जिसमें वेबसाइट के अन्दर के कंटेंट, जानकारी एवं समस्याओं को सर्च इंजन की गाइडलाइन के अनुसार arrange किया जाता है। वेबसाइट यूआरएल स्ट्रक्चर, साइटमैप बनाना एवं सबमिट, रोबॉट टेक्स्ट फाईल, मेटा टाइटल एवं डिस्क्रिप्शन, मोबाइल रेस्पॉन्सिव वेबसाइट सेटिंग, 404 पेज सेटिंग, कीवर्ड ऑप्टिमाइजेशन, रीडिंग एवं सब हेडिंग, Alt टैग्स डिटेल्स, गूगल सर्च कंसोल, गूगल analytics आदि को सर्च इंजन के नियमों के अनुसार ऑप्टिमाइज किया जाता हैं। जिससे वेबसाइट सर्च इंजन में टॉप पेज पर रैंक करे।

यह भी पढ़े-  SEO Kya Hai 

 

3- 404 Error Kya Hai (404 एरर क्या है)

हम सभी ने कभी ना कभी यह देखा होगा कि, जब हम इंटरनेट पर कोई यूआरएल ओपन करते है तो वहां पर लिखा आता है 404 एरर अथवा Page does not found. 404 एरर अर्थ होता है कि जो कंटेंट पहले इस यू आर एल पर स्टोर एवं उपलब्ध था वह कंटेंट अब हटा दिया गया है अथवा डिलीट कर दिया गया है या उपलब्ध नहीं हैं। ऐसा समझे।

इस एरर से बचने के लिए हमें 404 एरर पेज बनाकर अपनी वेबसाइट में लगाना पड़ता हैं। अगल यह एरर पेज वेबसाइट में नहीं लगा होगा तो यूजर को लगेगा कि यह वेबसाइट बेकार है, इससे वेबसाइट इंगेजमेंट समय शून्य अथवा कम होता जाता है। फलस्वरूप सर्च इंजन पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है जिस कारण वह वेबसाइट की रैंकिंग को नीचे  अथवा गिरा देता है। इसलिए वेबसाइट में 404 एरर पेज अवश्य लगाये।

 

4- Keywords Kya Hota Hai(कीवर्ड क्या होता है)

कीवर्ड कोई शब्द, शब्दों का समूह, वाक्य, प्रश्न, वॉयस प्रश्न, जानकारी माँगने के लिए शब्द इनपुट होता है, जिसके द्वारा हम इंटरनेट से किसी विषय एवं वस्तु पर पूर्ण व आंशिक जानकारी प्राप्त करते हैं। यह साधारण, छोटा, लम्बा किसी भी स्वरूप में हो सकता हैं। शब्दो द्वारा खोजा गया वाक्य भी एक कीवर्ड होता हैं। कीवर्ड रिसर्च कर हम रैंकिंग योग्य कंटेंट लिखते हैं। कीवर्ड रिसर्च के लिए विभिन्न टूल्स का प्रयोग किया जाता हैं। गूगल कीवर्ड प्लानर स्वयं गूगल का ही कीवर्ड रिसर्च टूल हैं। इसके अलावा ahrefs, semrush, etc महत्वपूर्ण टूल्स हैं।

 

5- Keyword Research Kya Hai(कीवर्ड रिसर्च क्या है)

कीवर्ड शोध को हिन्दी में खोजशब्द अनुसंधान भी कहते हैं। कीवर्ड रिसर्च सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रिया हैं। इसके माध्यम से हम विभिन्न कीवर्ड अथवा क्वेरी(Query) पर ग्लोबल एवं लोकल सर्च वॉल्यूम या डेंसिटी, कम्पीटीशन,  डिफिकल्टी, CPC, CTR,  पेज इमप्रेशन, पर्यायवाची कीवर्ड, एफ ए क्यू आदि रैंकिंग फैक्टर देखते हैं।

ऐसा करने से उस कीवर्ड पर हमारी वेबसाइट की गूगल के प्रथम पेज पर रैंक करने की संभावना बढ़ जाती हैं। गूगल एडसेंस  अच्छा CPC कीवर्ड को हाई रेवेन्यू भी प्रदान करता हैं।  सीपीसी(CPC) का प्रयोग गूगल एडवर्ड में बिड(Bid) लगाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। इससे गूगल को अच्छा पैसा प्राप्त होता हैं। एक योग्य एस ई ओ एक्सपर्ट अच्छा कंटेंट लिखने के लिए हमेशा कीवर्ड रिसर्च करने के बाद ही कंटेंट लिखने का परामर्श देता है। क्योंकि लॉ, मीडियम, हाई डिफिकल्टी पर लिखा कंटेंट गूगल में वेबसाइट रैंकिंग को प्रभावित करता हैं। 

 

6- Sitemap Kya Hota Hai, Sitemap Kaise Banaye, Sitemap Kaise Submit Kare

साइटमैप वेबसाइट का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यह दो प्रकार का होता XML & HTML. 

 

XML साइटमैप सर्च इंजन को सूचित करने के लिए होता हैं। यह एक ऐसा xml मैप होता है जिसके द्वारा सर्च इंजन वेबसाइट के सभी यू आर एल, पेज एवं संपूर्ण कंटेंट को crawl एवं देख कर गूगल के डाटाबेस में इंडेक्स अथवा स्टोर कर लेता हैं। जब कभी भी वेबसाइट पर कुछ नया कंटेंट, पेज, यू आर एल अथवा डाटा अपडेट होता है तो सर्च इंजन रोबॉट को पता चल जाता हैं एवं वह नये डाटा को अपने डाटाबेस में अपडेट कर देता हैं।

इसके अलावा Html साइटमैप वेबसाइट यूजर के लिए होता है यह यूजर को दर्शनीय होता है एवं इसकी सहायता से कोई  भी यूजर एक ही स्थान से पूरी वेबसाइट की सारे पेज एवं यू आर एल पता कर लेता हैं। इससे उसे वेबसाइट के दूसरे पेजों पर विजिट(Navigate) करने में आसानी व सहायता प्रदान होती हैं और समय की भी बचत होती हैं।  

 

साइटमैप जनरेट करने लिए, साइटमैप जनरेटर टूल का प्रयोग कर उसे डाउनलोड करते है, फिर वेबसाइट  पैनेल में स्टोर करने के बाद गूगल सर्च कंसोल अथवा वेबमास्टर में साइटमैप सबमिट करते है।

 

किसी भी वेबसाइट का साइटमैप चेक करने के लिए – website url/sitemap.xml टाइप करें।

7- Sitemap ka size kitna hona chahiye

वेबसाइट साइटमैप का साइज 50 MB या 52,428,800 bytes से अधिक नहीं होना चाहिए, इसके अलावा साइटमैप में URL की संख्या 50,000(पचास हजार) से ज्यादा नहीं होना चाहिए। साइटमैप का साइज 50 MB से अधिक होने पर एक से ज्यादा(Multiple)साइट मैप बनाकर उन्हे Sitemap Index File के रूप में प्रयोग करना उचित माना जाता है।

8- Robots.txt Kya Hota Hai

यह एक टेक्स्ट फाईल हैं। robots.txt का प्रयोग सर्च इंजन रोबोट को किसी वेबसाइट, वेबसाइट पेज, पेज समूह, विशेष यू आर एल आदि को Allow or Disallow इंडेक्स  करने लिये किया जाता हैं। इसकी सहायता से प्राइवेट पेज, डाक्यूमेंट्स, एडमिन पैनल, आदि पर्सनल जानकारियों को disallow tag लगाकर सर्च इंजन के डेटाबेस में इंडेक्स होने से बचाया जाता है फलस्वरूप प्राइवेट जानकारियां पब्लिक दिखाई नहीं देती। जिन URLs को हमें सर्च इंजन में इन्डेक्स करना होता है उनके लिए Allow Tags का प्रयोग करते है।

उदाहरण –  

User-Agent: *

https://www.my-knowledge.in/wp-admin/options-general.php?page=ad-inserter.php#tab-15

Disallow: /admin/

 

9- Google Search Console Kya Hai(गूगल सर्च कंसोल क्या है) 

गूगल सर्च कंसोल गूगल का एक मुफ्त टूल है जिसकी सहायता से हम अपनी वेबसाइट के सभी यूआरएल version प्रॉपर्टी को सर्च कंसोल में वेरीफाई करते है एवं वेबसाइट का साइटमैप सर्च कंसोल में सबमिट करते हैं,  ताकि गूगल सर्च इंजन वेबसाइट को आसानी से crawl करके indexing करता रहे। साथ ही यह टूल वेबसाइट के टॉप queries, पेज, कीवर्ड पॉजिशन एवं क्राउलिंग डेट की जानकारी देता है। सर्च इंजन कंसोल टूल  वेबसाइट में किसी भी प्रकार की तकनीकी एवं जरूरी बदलाव की आवश्यकता की सूचना प्रदान करता है। अगर एक वाक्य में कहे तो – सर्च इंजन कंसोल वेबसाइट की गूगल सर्च इंजन पर  परफॉर्मेंस के आकलन व जरूरी बदलाव को दर्शाता है।  

 

10- Search Console Insights Kya Hai(सर्च कंसोल इनसाइट्स क्या है)

 

Search Console Insights – गूगल सर्च कंसोल का एक भाग है, जिसके माध्यम से आप अपनी वेबसाइट के लेटेस्ट टॉप रैंकिंग पोस्ट, टॉप ट्रेडिंग प्रश्न, बेस्ट परफॉरमेंस पेज क्लिक एवं पेज views, वेबसाइट लेटेस्ट ओवरऑल परफॉर्मेंस, टॉप ट्रैफिक चैनल एवं नया कंटेंट, ऑर्गेनिक-डायरेक्ट और सोशल मीडिया वेबसाइट सर्च ट्रैफिक डिटेल्स, बेस्ट रेफरेंस Link सूचना आदि की जानकारी प्राप्त करते हैं।

 

सर्च कंसोल इनसाइट्स के माध्यम से हम अपनी वेबसाइट इंटरनेट पर यूजर के साथ कैसा व्यवहार कर रही है उसकी जानकारी ग्रहण कर अपने कंटेंट को और अधिक अच्छे से तैयार कर सकते हैं। एवं वेबसाइट पर अधिक ट्रैफिक ला कर वेबसाइट परफॉर्मेंस को बढ़ा सकते हैं।

 

11- Google Analytics Kya Hota Hai(गूगल एनालिटिक्स क्या होता है) 

Google Analytics गूगल का फ्री टूल है, ये हमे वेबसाइट यूजर्स व्यवहार की सभी जानकारी प्रदान करता है ताकि यूजर्स व्यवहार की डिटेल्स की सहायता से वेबसाइट के कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन, on page optimization, मोबाइल optimization, भौगोलिक स्थिति, device & Internet connection, real time परफॉर्मेंस, पेज views, टॉप पेज, आदि की जानकारी प्राप्त की जा सके। 

गूगल एनालिटिक्स टूल की सहायता से हम अपने वेबसाइट पर आ रहे direct, paid, organic, referring ट्रैफिक से यूजर्स के व्यवहार, टाईम एवं वह वेबसाइट पर कैसा engagement कर रहा है आदि महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करते है।

 

12- Latest Seo Link Building Strategy Kon Si Hai(नवीनतम एसईओ लिंकबिल्डिंग रणनीति कौन सी है)

लेटेस्ट एसईओ लिंकबिल्ड़िग तकनीक की सूची में ईमेल आउटरीच सबसे पसंद की जाने वाली स्ट्रेटेजी है। यह बिल्कुल सुरक्षित एवं जल्दी रिजल्ट देने वाला तरीका है। इसके अलावा अन्य महत्वपूर्ण एसईओ स्ट्रेटेजी इस प्रकार है।

  • Email Outreach Promotion
  • Guest Posts 
  • Question And Answers 
  • Social Media Sharing 
  • Forums Discussions
  • Article Submission
  • Relevant Blog Comments

Read Also – Digital Marketer Kaise Bane 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like