Business

Company Kya Hoti Hai कंपनी क्या होती है, परिभाषा

Company Kya Hoti Hai

company(Meal Togethr) दो शब्द Com(Together) व Panis(Bread) से मिलकर बना है, इसका अर्थ होता है साथ बैठकर कर भोजन करना। पुराने समय में जब मर्चेन क्साल के व्यक्ति अपने बिजनेस से दौरान साथ बैठकर भोजन करते एवं व्यवसाय संबन्धित चर्चा करते थे।

कम्पनी की परिभाषा

कम्पनी एक्ट 2013 के अनुसार

इस एक्ट के सेक्शन. 2(20) के अनुसार कम्पनी एक कम्पनी है जो कि कम्पनी एक्ट 2013 अथवा पिछने किसी अन्य कम्पनी लॉ के अधीन बनी और पंजीकृत की गई है।

कम्पनी ऐसे लोगो का एक एसोसिएशन है जो धन योगदान करके इसे एक Common उद्देशय पूर्ति के लिए इन्वेस्ट करते एवं साथ मिलकर कार्य करते है।

कानून की नजर में कम्पनी एक लीगल व्यक्ति होती है।

कम्पनी को कानून द्वारा एक लीगल व्यक्ति का दर्जा दिया गया है। अतः कम्पनी एक लीगल पर्सन होती है. इसका अस्तित्व अपने मेम्बर्स के बिना भी बना रहता है। इसलिए यह कोर्ट में किसी पर मुकदमा भी कर सकती है और इस पर भी मुकदमा किया जा सकता है।

कम्पनी निर्माण प्रक्रिया

कम्पनी निर्माण साधारणतः 3 चरणों में किया जाता है।

  1. कम्पनी प्रमोशन
  2. कम्पनी रजिस्ट्रेशन
  3. कम्पनी बिजनेस आरम्भ(Business Commencement)

कंपनी के प्रकार

कम्पनी तीन प्रकार की होती है

एक व्यक्ति की कम्पनी(One Persone Company)

इस कम्पनी में मेम्बर्स की संख्या केवल एक होती है, और यह एक प्राइवेट कंपनी में गिनी जाती है।

प्राइवेट कम्पनी

प्राइवेट कम्पनी वह कंपनी है जिसकी न्यूनतम पेडअप कैपीटल एक लाख रूपये हो तथा शेयर्स के ट्रांसफर अधिकार को प्रतिबंधित करती हो। इसके अधिकतम मेम्बर्स की संख्या 200 से अधिक नहीं होनी चाहिए। यदि दो या दो से अधिक मेम्बर्स मिलकर कंपनी के शेयर खरीदते है तो इस स्थिति में उन मेम्बर्स को joint members मानकर एक मेम्बर गिना जाता है। प्राइवेट कंपनी की सेक्योरिटी सब्सक्रिप्शन का इनविटेशन पब्लिक के लिए वर्जित होता है।

पब्लिक कम्पनी

यह वह कम्पनी होती है जो प्राइवेट न हो तथा इसकी न्यूनतम पेडअप कैपीटल 5 लाख रूपये हो। इसके न्यूनतम मेम्बर्स की संख्या 7 से कम नहीं होनी चाहिए व ये सभी मेम्बर्स कम्पनी एक्ट 2013 के अन्तर्गत रेजिस्टर्ड होने चाहिए।

मल्टी-नेशॉनल कंपनी(MNC)

यह व कम्पनी होती है जो अपने प्रोडक्ट एवं सर्विसेज को एक से अधिक देशों में प्रदान करती है। इसलिए इन्हे इंटरनेशनल कंपनी भी कहा जाता है। इन कंपनी का हेड ऑफिस इनके मूल देश में होता है तथा उसकी ब्रांच विभिन्न देशो में हो सकती है।

सरकारी कंपनी

जिस कंपनी में न्यून्तम 51 प्रतिशत शेयर कैपिटल की हिस्सेदारी केन्द्र सरकार अथवा राज्य सरकार या केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा की जाती है वह सरकारी कंपनी कहलाती है।

इन्वेस्टमेंट कंपनी

जिन कंपनियों का मूल बिजनेस शेरय, डिबेन्चर, स्टॉक व अन्य सिक्योरिटी का अधिग्रहण करना होता है वे इन्वेस्टमेंट कंपनी कहलाती है।

FERA कंपनी

ये वे कंपनी हे, जो कंपनी भारत में ऑपरेट हो रही है तथा फॉरेन एक्सचेंज रेग्यूलेशन एक्ट 1973 के अंतर्गत आती है। इनका फॉरेन कैपिटल इंटेरेस्ट या तो शून्य होता है या 40 प्रतिशत से कम। भारत में फॉरेन इन्कार्पोरेटिड कंपनी केवल बिजनेस ऑपरेशन के लिए रजिस्टर्ड होती है।

विदेशी कंपनी

भारत में विदेशी कंपनी वह कंपनी है जिसका व्यापार करने की जगह भारत है जो कि कंपनी स्वयं या एजेंट द्वारा फिजीकली अथवा इलक्ट्रॉनिक रूप से संचालित करती हो।

चैरिटेबल कंपनी

इन कंपनी का उद्देश्य चैरिटी करना होता है। यह अपने मुनाफे के पैसों और अन्य कमाई को चैरिटी था उसे प्रोमोट करने में लगाती है।

यह भी पढ़े- Job Vs Business दोनो में कौन बेहतर

You may also like